प्रेरणा हिन्दी प्रचार सभा के तत्वावधान में राष्ट्रीय काव्य गोष्ठी आयोजित - कवि अशोक गोयल 

pic

utkarshexpress.com पिलखुवा (राजस्थान) -- आज राष्ट्रीय प्रेरणा हिंदी प्रचारिणी सभा के तत्वाधान में एक राष्ट्रीय काव्य संध्या का आयोजन वरिष्ठ कवि संगम त्रिपाठी, व वरिष्ठ कवि एवं साहित्यकार कवि अशोक गोयल जी के सानिध्य में एक विराट काव्य संध्या आयोजित की गई सभी रचनाकार इस गोष्ठी में बहुत ज्यादा आक्रोशित थे हर रचनाकार की जुबान पर एक ही बात हिंदी राष्ट्र भाषा के रूप में घोषित हो जब तक यह घोषणा सरकार द्वारा नही होगी तब तक हम अपनी आवाज को बुलंद रखेंगे।कार्यक्रम की अध्यक्षता पुरुषोत्तम सोनी मतंग संपादक सर्जन धारा हिंदी लखनऊ रहे। सरस्वती वंदना कवि राम लाल द्विवेदी जी द्वारा की गई। कार्यक्रम का सुंदर व जानदार संचालन वरिष्ठ कवि हरि नाथ शुक्ल हरि सुल्तानपुर ने किया। वरिष्ठ कवि एवं साहित्यकार राष्ट्रीय कवि अशोक गोयल ने कहा _करें हम प्यार हिंदी से ,करें तकरार हिंदी में,अगर हो भूल भी कोई करें स्वीकार हिंदी में। यही पहचान है अपनी,हमारे दिल में ये रहती है, कि दिल की बात कहने का मजा, है यार हिंदी में। कवयित्री बीना गोयल ने अपनी रचना कुछ इस प्रकार पेश की _हमारी मान है हिंदी,हमारी आन है हिंदी । हमारी एकता की ये बड़ी पहचान है हिंदी। कवि गुरुदीन वर्मा ने पढ़ा _नाहक समझकर अपनों ने, नाचीज बना दिया मुझको। सौतन से लगाकर दिल सबने,बेघर बना दिया मुझको। कवि हरि नाथ शुक्ल हरि ने अपनी रचना को कुछ ऐसे पेश किया _हमारी रूह का बंधन बंधा है मातृभाषा से, सरस रसधार है जो मुक्त करती मन पिपासा से। संस्था के संस्थापक वरिष्ठ कवि संगम त्रिपाठी  ने पटल पर उपस्थित सभी रचनाकारों का स्वागत कर उनका धन्यवाद अदा किया उन्होंने सभी को धायवाद अदा करते हुए कहा कि आप सभी की मेहनत एक दिन अवश्य रंग लाएगी और वो दिन दूर नही जब हिंदी राष्ट्र भाषा के रूप में घोषित होगी। मीडिया प्रभारी गुरुदीन वर्मा के अनुसार कार्यक्रम में कवयित्री सुषमा खरे, कवि अशोक गोयल ,कवयित्री बीना गोयल, डॉ मंजुला साहू, कवि सुशील कुमार पाठक , डॉ निराला पाठक , कवि गोपाल जाटव विद्रोही, डॉ अन्नपूर्णा श्रीवास्तव, कवि रामनिवास तिवारी मध्य प्रदेश, कवि विजय कुमार हैदराबाद तेलंगाना, डॉ रजनी अग्रवाल, कवि  राजेश तिवारी  मक्खन झांसी, कवि के. एल.विनोदी महाराजपुर,कवि पप्पू सोनी शाम गढ़,कवि गुरुदीन वर्मा राजस्थान,कवि प्रसाद राव जामी तेलंगाना, सुनीता जोहरी वाराणसी,आदि रचनकारों ने कार्यक्रम में भाग लेकर कार्यक्रम को बहुत ऊंचाइयां प्रदान की । कार्यक्रम के अंत में राष्ट्रीय गोष्ठी संयोजक कवि अशोक गोयल ने सभी रचनाकारों का धन्यवाद अदा कर कार्यक्रम के विराम की घोषणा की।

Share this story