शिक्षकों की गोद में - ऋतुबाला रस्तोगी

pic

शिक्षकों की गोद में पलते प्रलय निर्माण भी।
नष्ट कर अज्ञान जड़  में फूँकते  है  प्राण भी।
शिक्षकों की गोद में ......
रोप देते योग्यता अपनी सभी भवितव्य में,
कौन कर सकता भला समतुल्यता कर्तव्य में,
प्राण रक्षा भी सिखाते हैं चलाना बाण भी।
शिक्षकों की गोद में ......
है अलग सिद्धांत शिक्षक का कुशल हर छात्र हो,
दो   कदम  आगे  रहे  आनंद  सुख  का  पात्र हो,
दंड  देते हैं कभी करते कभी हैं त्राण भी।
शिक्षकों की गोद में ......
मात खा सकता नहीं जो बात उसकी मान ले,
छात्र हो जाए सफल जो  ज्ञान पर  संज्ञान  ले,
कब सिखा दें क्या बता दें है नहीं परिमाण भी।
शिक्षकों की गोद में ......
-ऋतुबाला रस्तोगी चाँदपुर, बिजनौर

Share this story