शारीरिक शिक्षकों को बीएलओ ड्यूटी से हटाने का प्रशासन का फैसला स्वागत योग्य - धर्मेन्द्र गहलोत

pic

utkarshexpress.com शिवगंज (राजस्थान) -  सिरोही जिले में खेल प्रतिभा को आगे बढाने एंव राजीव गांधी ग्रामीण ऑलम्पिक खेलों के सुव्यवस्थित आयोजन के मददेनज़र सिरोही विधायक संयम् लोढ़ा के प्रयास पर जिला कलेक्टर डॉ. भंवरलाल, सिरोही द्वारा जिले में शारीरिक शिक्षकों को बीएलओ ड्यूटी से मुक्त करने के आदेश जारी किये जिस पर राजस्थान शिक्षक संघ (प्रगतिशिल), के मुख्य महामंत्री धर्मेन्द्र गहलोत ने धन्यवाद प्रकट किया। 
संगठन के मीडिया प्रभारी गुरुदीन वर्मा के अनुसार राजस्थान शिक्षक संघ (प्रगतिशिल), के मुख्य महामंत्री धर्मेन्द्र गहलोत ने बताया है कि 25 जूलाई को जिला कलेक्टर डॉ. भंवरलाल की अध्यक्षता में जिला क्रिडा परिषद की बैठक में जिला खेल अधिकारी अशोक चौधरी द्वारा अवगत कराया कि शारीरिक शिक्षकों को बीएलओ ड्यूटी में लगाने से स्कूली खेलकूद प्रतियोगिता, खेलो को बढ़ावा देने, आगामी राजीव गांधी ऑलम्पिक खेलों के आयोजन में व्यवधान उत्पन्न हो रहा है जिस पर सिरोही विधायक संयम लोढा ने तत्परता से जिले के खेलो को बढावा देने के लिए शारीरिक शिक्षकों को बीएलओ ड्यूटी से हटाने के निर्देश पर जागरूक जिला कलेक्टर डॉ. भंवरलाल ने जिला खेल अधिकारी को शा.शिक्षकों की सूची प्रस्तुत करने के निर्देश दिये थे। जिस पर  आज जिला कलेक्टर सिरोही ने जिले के समस्त उपखण्ड अधिकारियों को शा.शिक्षकों ड्यूटी से हटाने के निर्देश जारी कर दिये। 
संगठन ने इस फैसले पर खुशी जताते हुए जिला कलेक्टर डॉ.भंवरलाल, सिरोही, विधायक संयम लोढा, जिला खेल अधिकारी अशोक चौधरी का आभार व धन्यवाद ज्ञापित किया। गहलोत ने कहा कि इस फैसले से आगामी स्कूली खेल एंव राजीव गांधी ग्रामीण ऑलम्पिक खेलों के सफल आयोजन होगे। शारीरिक शिक्षक बिना दबाव में कार्य कर सकेंगे। संगठन लम्बे समय से शा.शिक्षको की बीएलओ ड्यूटी हटाने की पैरवी करता आया है

Share this story