केशव देव शुक्ला ने किया "सदमे में सुदामा" नामक पुस्तक का अवलोकन 

pic

utkarshexpress.com दिल्ली- 'केशव कल्चर' के प्रणेता एवं आगरा में विगत 55 वर्षो से अधिवक्ता के पद पर सेवारत  केशव देव शुक्ला ने दिल्ली निवासी सुरेश खांडवेकर को उनके अभूतपूर्व लेख " साधना क्या है?" एवं पुस्तक "सदमे में सुदामा" और "ताले में जिंदगी" का अवलोकन किया और सुरेश जी को शुभकामनायें देते हुए केशव कल्चर की गतिविधियों में उनकी सक्रियता और संस्था को पथ प्रदर्शन एवं नव ऊर्जा देने के लिए उनकी भूरी भूरी प्रशंसा की  l विदित हो आदरणीय केशव देव शुक्ला अस्वस्थता के चलते भी वर्तमान समय में बड़ोदरा से संस्था की गतिविधियों का अवलोकन कर रहे हैं l सर्वप्रमुख बात उनके धैर्य, लगन और अपने कर्तव्य के प्रति निष्ठा की है कि वह इतने अस्वस्थ होने पर भी जबकि वे अस्पताल में ऑक्सीजन पर हैँ सुरेश खांडवेकर की पुस्तक 'सदमे में सुदामा' पढ़ने का मोह संवरण न कर पाए । जीवन पर्यंत वे भारतीय संस्कृति के संरक्षण में लगे रहे है l लेखक एवं ज्योतिषविद होने के  साथ ही केशव परमसंतोषी और शांत स्वभाव के धनी है l 
अभी हाल ही में केशव कल्चर की पुस्तक 'प्रसादम एवं समष्टि'(कलर्ड) के अपना-घर आश्रम में हुए विमोचन और काव्य सम्मलेन समारोह में सुरेश कुमार ने विशिष्ट अतिथि की भूमिका निभाई और कार्यक्रम का सफल संचालन भी किया जिसके लिए अभी हाल ही में नव वर्ष पर आयोजित संगीत संध्या जो सुरेश कुमार  निवास स्थान पर आयोजित की गई ,केशव कल्चर की संस्थापिका सुश्री दीप्ति शुक्ला ने उन्हें एक स्मृति चिह्न देकर अपना आभार प्रकट किया l
इस कार्यक्रम में  सर्वश्री प्रवीण शर्मा, सेठ रामनिवास गुप्ता , नरेश बजाज, पल्लवी, प्राची, केवल सबरवाल , विजयपाल, सुजाता खांडवेकर, अंकिता एवं अक्षत कुमार आदि उपस्थित रहे l
केशव कल्चर संस्था की संस्थापिका दीप्ति शुक्ला करोना काल से भारतीय संगीत, संस्कृति एवं साहित्य के उत्थान हेतु गहन कार्य कर रही हैं l कृष्ण भक्ति से ओत-प्रोत यह संस्था विश्वस्तर पर विभिन्न कलाकारों को पहचान दिलाने में भी प्रयासरत है l साथ ही तकनीकी ज्ञान से आध्यात्मिक एवं नैतिक कहानियों को 2d एनिमेशन और वीडियोज के माध्यम से यूट्यूब से सर्वसुलभ करा रही हैं l पुस्तकों की डिजाइनिंग में उच्चस्तरीय डिजिटल आर्ट्स का उपयोग किया गया है l विगत वर्ष फाग महोत्सव भी काफ़ी सफल रहा l अभी संस्था अपने वार्षिकोत्सव की तैयारियों में व्यस्त है l भविष्य में यह संस्था जनकल्याण हेतु अपने विभिन्न कार्यों द्वारा अनेक सोपान चढ़ने के लिए प्रयासरत है। 'केशव कल्चर' के प्रणेता आदरणीय केशवदेव शुक्ला के शीघ्र स्वास्थ्य- लाभ की कामना करते हैं। आशा है दीप्ति शुक्ला जी हमें इस संस्था के आगामी कार्यक्रमों से अवगत कराती रहेंगी।

Share this story