बच्चा पैदा करने नागपुर से युवती को खरीदा

ajab

Utkarshexpress.com उज्जैन। जिले के काठबड़ौदा गांव में उपसरपंच राजपाल सिंह संतान की चाहत में नागपुर से एक युवती को खरीदकर ले आया। गांव वालों को भनक नहीं लगे इसलिए युवती को 16 महीने तक घर में छिपाकर रखा, उसका शारीरिक शोषण किया। डिलीवरी के लिए देवास के प्राइवेट हॉस्पिटल में अपनी पत्नी के नाम से भर्ती कराया, जहां ऑपरेशन से बच्चे का जन्म हुआ। बच्चे का जन्म होते ही युवती को बच्चे से दूर कर लावारिस हालत में छोड़ दिया।
पुलिस ने आरोपी राजपाल सिंह और उसकी पत्नी चंद्रकांता को गिरफ्तार कर लिया है। वहीं दो अन्य लोगों को भी इस मामले में आरोपी बनाया गया है। आरोपी पति-पत्नी से उज्जैन के नजदीक कायथा थाने में पूछताछ की गई है। थाना प्रभारी राममूर्ति शाक्य ने उसे वन स्टॉप सेंटर भिजवाया। पुलिस ने बताया कि ऑपरेशन से डिलीवरी होने के कुछ घंटे बाद युवती को भगा दिया था। इस वजह से उसकी हालत बिगड़ गई और पेट में इंफेक्शन हो गया।
आरोप है कि संतान की चाहत में राजपाल सिंह नागपुर से एक युवती को खरीदकर लाया। गांव वालों को भनक नहीं लगे इसलिए युवती को 16 महीने तक घर में छिपाकर रखा, उसका शारीरिक शोषण किया। गर्भवती होने के बाद डिलीवरी के लिए उसे देवास के विनायक हॉस्पिटल में अपनी पत्नी के नाम से भर्ती कराया, जहां ऑपरेशन से बच्चे का जन्म हुआ। लेकिन बच्चे का जन्म होते ही आरोपी ने युवती को उसके बच्चे से दूर कर दिया। 19 साल की युवती 6 नवंबर को देवास गेट पर लावारिस हालत में उज्जैन पुलिस को मिली थी, जिसके बाद उसे वन स्टॉप सेंटर भिजवाया गया। ऑपरेशन से डिलीवरी होने के कुछ घंटे बाद ही युवती को भगा दिया गया था। इस वजह से उसकी हालत बिगड़ गई और पेट में इंफेक्शन हो गया था। पुलिस ने युवती से पूछताछ की तो मामले का खुलासा हुआ।
युवती ने वन स्टॉप सेंटर को बताया, ‘मैं नागपुर की रहने वाली हूं। माता-पिता नहीं हैं। परिवार में 13 साल का भाई है। नागपुर की चंदा नामक महिला शादी का भरोसा दिलाकर एक आदमी को बेचकर चली गई। उसने करीब डेढ़ साल घर में छिपाकर रखा। इस दौरान घर में मुझे जो जानकारी मिली उसके मुताबिक, उस आदमी की पत्नी को दो बच्चे हुए थे इसके बाद उसने पत्नी की नसबंदी करवा दी थी। इस बीच बच्चे मर गए।

Share this story