शादी समारोह उदंडता करने वाले कलेक्टर के खिलाफ मुख्यमंत्री ने गठित की जांच समिति

शादी समारोह उदंडता करने वाले कलेक्टर के खिलाफ मुख्यमंत्री ने गठित की जांच समिति

utkarshexpress.com देहरादून। विनोद निराश। आज कल सोशल मीडिया पर अगरतला के जिलाधिकारी का लगभग 5 मिनट का एक वीडियो खूब वायरल हो रहा है , जिसमे जिलाधिकारी महोदय अपनी कुर्सी एवं पद के नशे में इतने चूर नज़र आ रहे है कि रात्रि शादी समारोह में आये सभी बारातियों महिलाओं , पुरषों से धक्कामुक्की एवं अशोभनीय भाषा का प्रयोग करते नज़र आये। पुलिस को आदेश देकर कई लोगों को गिरफ्तार कराया तो कई पर लाठियां बरसवाई। इस घटना के दौरान एक सभ्य आदमी ने अंग्रेजी में माफ़ी मांगते हुए इतना ही कही कि मैं एक सर्जन हूँ, हम जा रहे है, इतना सुनते ही कलेक्टर साहब भड़क उड़े और पुलिस को उनको अरेस्ट करने का आदेश दिया , उनकी पति ने कहा की भैया गलती हुई हमें जाने दो , इस पर कलेक्टर साहब और भड़क उड़े मैं किसी का भैया नहीं , आई एम ए कलेक्टर। जब एक महिला ने शादी का कार्ड दिखाया तो शादी का कार्ड फाड़ कर उसके मुँह पर फैक दिया।

इतना ही नहीं इस कलेक्टर की क्रूरता का शिकार दूल्हा, दुल्हन भी हुए। धक्कामुक्की करते हुए दूल्हे को भी पुलिस द्वारा गिरफ्तार कराया गया। डीएम साहब पुलिस के एक दरोगा को ये भी कहते नज़र आये साले ऐसे ड्यूटी कर रहे हो तुम, तुझे भी सस्पेंड कराता हूँ। वे पुलिस कर्मियों से भी अभद्रता करते नज़र आये। एक लोकसेवक के लिए इससे निंदनीय कृत्य कोई हो ही नहीं सकता। उसके बाद वे सामने वाले शादी समारोह में जाते नज़र आये। 

आज पूरे देश में उक्त कलेक्टर के खिलाफ सोसल मीडिया, फेसबुक पर अभियान जोर पकड़ रहा है। समाचार पत्रों में भी कलेक्टर साहब खूब सुर्ख़ियों में है। राजनैतिक एवं गैर राजनैतिक संगठनों एवं उनसे जुड़े लोगों ने ऐसे कलेक्टर को राज्य सरकार से बर्खास्त करने की मांग की है। इसी के दृष्टिगत  त्रिपुरा के मुख्यमंत्री ने दो वरिष्ठ अधिकारियों की जांच समिति  गठित की जो कलेक्टर द्वारा की गई कार्यवाही की समीक्षा करेगी। जांच समिति का निर्णय आते ही जिलाधिकारी के ऊपर कठोरतम कार्रवाई किये जाने का मुख्यमंत्री ने शिकायत कर्ताओं को आश्वासन दिया है। त्रिपुरा के मुख्यमंत्री विप्लव देव भी स्वयं जिला अधिकारी के व्यवहार को उचित और मर्यादित नहीं मान रहे है। 

Share this story