भजन = ज्योत्सना रतूड़ी 

pic

हे मात सुनो मेरी विनती,
है पीर पड़ी माँ तू हरती।
अब दूर करो मां ये  विपदा,
सब को अब दो मात संपदा।

 माँ लाज रखो अब तुम मेरी,
आ गयी  हूं माँ  शरण तेरी।
 भव सागर से तुम पार करो,
 हर लो दु:ख मेंरे धीर धरो ।

मां मुझे आस तेरी भारी,
मैं भी तुझसी हूं एक नारी ।
अब खोल दो विशाल ये नैन,
कट गयी दु:खों भरी वो रैन।

= ज्योत्स्ना रतूड़ी ज्योति
 उत्तरकाशी, उत्तराखंड
 

Share this story