बदल गया - जया  भराड़े बड़ोदकर 

pic

समय के साथ देखो बदल गया,
बच्चों का जीवन था कभी,
परेशान ट्यूशन की सजा मे,
स्कूल भी धंधा हो गया था.
फीस के बाजार में
शिक्षा भूल गई थी दिशा,
अपनी इस आधुनिक काल में,
शिक्षक भी बिक चुका था,
समस्याओं के संसार में,
आज समय ने सिखा दिया है,
सब कुछ अन्याय हो रहा था,
कही भी मर्यादा न रुक रही थी,
वो जा रही थी अज्ञान के अंधकार में,
एक सीमा ऐसी आई,
ईश्वर ने जो देखा सबका होते हुए पतन, 
खींच दी एक  लक्ष्मन रेखा,
डाल दिया कोरोना काल में,
सुधर गई अब शिक्षा शैली,
अनिवार्य था जो सुधार मे,
एक नहीं अब अनेक सबूत,
है सुधर गया सब कुछ,
इस पूरे विश्व को,
सुधार दिया है,
एक अदृश्य शक्ति भगवान ने,
बचपन छीन लिया था,
जो वापस पा लिया इंसान ने,
कोटि-कोटि नमन उस शक्ति को,
जो आज भी एक ही,
विश्व सत्य को साबित,
कर दिया भगवान ने। 
जया भराड़े बडोदकर,नवी मुंबई (महाराष्ट्र)

Share this story