छंद - (राष्ट्रीय युवा दिवस) - जसवीर सिंह हलधर  

pic

संतों के भी संत थे वो, विवेकी अनंत थे वो ।
लिपि में हलंत जैसे, ज्ञान अनुगामी थे ।।

संयमी अपार थे वो , ज्ञान का भण्डार थे वो ।
सत्य औ सनातन के , पूर्ण परिणामी थे ।।

दुनियां में घूम-घूम, हिन्द की मचाई धूम ।
ध्यान योग साधना के , सत्य पथ गामी थे ।।

धर्म अधिवक्ता थे वो , वेदों के प्रवक्ता थे वो ।
भक्ति और मुक्ति के वो , वैदिक आयामी थे ।।
- जसवीर सिंह हलधर, देहरादून  
 

Share this story