हालात  = दीपक राही

pic

मौजूदा हालात का,
क्या हम ज़िक्र करें, 
जो आने वाला है,
उसकी फिक्र करें,
पार्क भी यहां शमशान बने,
पानी में है लाशें बहें,
देखकर ऐसी हालत,
कैसी हम चाल चले,
मौजूदा हालात का,
किनसे अब हम सवाल करे?

एक लहर ने घोला जहर,
दूसरी से अनजान थे,
फेसबुक, व्हाट्सएप 
और यूट्यूब पर बने हम स्टार थे,
यही तो उनकी पीठ पर,
सवार थे,
मेहनतकशों ने ही दिए इम्तेहान थे
इस मुश्किल हालात में,
वही तो हमारे साथ थे।
अब कैसी हम चाल चले,
मौजूदा हालात का,
किन से अब हम सवाल करे?

बेफिक्र थे जो इस तूफान से,
बह गए अपनी जुबान से, 
देखकर इस कहर को,
उन हवाओं से भी अंजान थे,
अब वही तो अनमोल हैं, 
बाकी सब झोल है,
अब कैसी हम चाल चले,
मौजूदा हालात का,
किन से अब हम सवाल करे?

कतारें बहुत सी देखी,
इस बार तो कुछ नई देखी,
अब तो मृत व्यक्तियों को,
लाइनों में लगते देखा,
लाशो को साइकिल पर,
ढोते हुए देखा,
उस जलते हुए मंजर को देख,
मन को पतगढ़ बनते देखा,
अब किस से बखान करें,
कैसी हम चाल चले,
मौजूदा हालात का,
किन से अब हम सवाल करे?
= दीपक राही, आरएसपुरा, जम्मू-कश्मीर
 

Share this story