आओ हम सब धरती बचाये = कालिका प्रसाद सेमवाल

आओ हम सब धरती बचाये = कालिका प्रसाद सेमवाल

सब मिल-जुल  पेड़  लगाये,
आओ हम सब धरती बचाये,
आक्सीजन बिन बिखर रही धरती,
पेड़ लगाकर यह जीवन बचाये।

आओ हम सब पेड़  लगाये,
धरती पर   हरियाली   लाये,
धरती पर बढ़  रहा  प्रदूषण,
पेड़ लगाकर प्रदूषण भगाये ।

पेड़ो से हमको फल मिलते है,
इन्हीं से मिलती  शीतल छाया,
पेडों से मिलती  हमको औषधियां,
रोगों का  होता  है  सफाया।

पेड़ सहायक  होते  वर्षा  में,
स्वच्छ बनाते ये वातावरण,
फलें फूले   पेड़  यदि  सारे, 
हरी भरी हो जाती है धरती।

जल ,ध्वनि प्रदूषण चारों ओर है,
नदियों भी हो गई है प्रदूषित,
आओ वसुन्धरा को सुन्दर बनाये
खाली  पडी जगहों पर पेड़ लगाये।

जीवन को यदि बचाना है तो,
पेडों   को  न    काटे  कोई,
पेडों की महिमा है युगों -युगों से,
धर्म ग्रंथ हमारे यह सब कहते है।
= कालिका प्रसाद सेमवाल, रुद्रप्रयाग   उत्तराखण्ड
 

Share this story