गौ माता ममता का भंडार = कलिका प्रसाद 

pic

सनातन धर्म का गौरव है गौ माता,
धर्म ग्रंथों में है गौ माता की महिमा,
गौ माता के दूध से श्रृंगी ऋषि ने,
खीर बनाई थी और हुआ था राम जन्म।

गौ माता युगों-युगों से पूजित है,
मानव का है इससे दिव्य नाता ,
इसके दूध से बनती है औषधि,
जो रोगों से मुक्ति दिलाती है।

मां तो हमें बचपन में ही दूध देती है,
प्यार से हमारा माथा चूम लेती है,
गाय तो सारी उम्र अमृत देती है,
इसी लिए हर किसी की चहेती है।

गौ माता तो ममता का भंडार है,
जिस भी घर में गौ रहती है,
पूर्वज भी प्रसन्न हो जाते है,
गौ माता में तैतीस कोटि देवता रहते।
= कालिका प्रसाद सेमवाल
मानस सदन अपर बाजार, रूद्रप्रयाग उत्तराखंड
 

Share this story