दीपावली - कर्नल प्रवीण

pic

तिमिर जो हृदय में उसे हम हटायें।

सुचित भाव से अब दिलों को सजायें।1

बड़ी गंदगी दिख रही हर हृदय में।

सही ज्ञान की आज झाड़ू लगायें।2

बढ़ा मज़हबी जातिवादी प्रदूषण।

उसे देश से मिल के' बाहर भगायें।3

गरीबी अशिक्षा कपट हों शमित अब।

इन्हें दूर करने का' बीड़ा उठायें।4

करें दूर बेरोजगारी सभी मिल।

मिले अन्न सबको कसम आज खायें।5

चढ़े हिंद सोपान उन्नति के' हर दिन।

कभी देश को हम न नीचा दिखायें।6

सभी हों सुखी देश आगे बढ़े जब।

खुशी से तभी दीप दिल के जलायें।7

- कर्नल प्रवीण व मीनू त्रिपाठी, नोएडा/उन्नाव

Share this story