ग़ज़ल = अनिरुद्ध कुमार 

ग़ज़ल = अनिरुद्ध कुमार

इस जहाँ में मुहब्बत भी जरूरी,
मिले दो नजर चाहत भी जरूरी। 
                     
अदाओं सें रिझाये रोज दिल को,
शरारत भी नजाकत भी जरूरी।  
                    
निगाहें शोख दिल पर छाप छोड़े,
अदावत भी नसीहत भी जरूरी। 
                         
जुबाँ पर प्यार के नगमे हिलोरे,
शरारत भी नफ़ासत भी जरूरी। 
                     
फिदा हो प्यार में दिलवर हमेशा,
इरादों में इबादत भी जरुरी।
                     
रहे बिंदास कोई फिकर ना हो,
नीयत, नेमत, नदामत भी जरूरी।
                      
इबारत में बयां अनि का फसाना,
तिजारत भी, विरासत भी जरूरी।

= अनिरुद्ध कुमार सिंह, धनबाद, झारखंड
 

Share this story