ग़ज़ल - अनिरुद्ध कुमार

pic

प्यार से तुमको पुकारा था कभी,
साथ में कुछ पल गुजारा था कभी। 
                      
जिंदगी इक ख्वाब सी लगने लगी,
क्या हँसी प्यारा नजारा था कभी।
                       
सुबह से आँखें तलाशे चेहरा,
राह में नजरें पसारा था कभी।
                       
देखते रुखसार पे लाली खिले,
पास से जा के निहारा था कभी।
                         
गजब की शोखी अदायें बाँकपन,
झूम जायें क्या इशारा था कभी।
                        
चाल मतवाली लगे कारीगरी,
हर जगह चर्चा हमारा था कभी।
                           
आज 'अनि' आके खड़ा किस मोड़ पर,
भूल ना पाये सहारा था कभी।
- अनिरुद्ध कुमार सिंह, धनबाद, झारखंड

Share this story