हे माँ सरस्वती - कालिका प्रसाद 

pic

हे माँ सरस्वती
तुम ही तो विद्यादायिनी हो
है दिव्य दृष्टि आपकी
ज्ञान, बुद्धि, और चेतना
विवेक को तुम संवारती
करती तुम तमस का नाश
माँ तुम ही तो हो भव तारिणी।

 हे माँ सरस्वती
सबकी विपदा दूर कर दो
ना  रहे   कोई    माँ अज्ञानी
राग द्वेष से दूर कर दे
कष्टों को तू हर दे माँ
तेरी महिमा अपरम्पार  है
ज्ञानेश्वरी माँ अमित ज्ञान दे।

हे माँ सरस्वती
परम पुनीता वेद गुनीता
धवल तेरा श्रृंगार है माँ
बुद्धि विशाला कृपा दयाला
विनय तेरा उपकार है
सकल विश्व में गूंज रही है
माँ तेरी वीणा की झंकार।
- कालिका प्रसाद सेमवाल
मानस सदन अपर बाजार, रुद्रप्रयाग उत्तराखंड
 

Share this story