हिंदी ग़ज़ल = जसवीर सिंह हलधर 

हिंदी ग़ज़ल = जसवीर सिंह हलधर

अनाड़ी ने कभी जानी नहीं सीरत मुहब्बत की ।
कबाड़ी क्या लगाएगा सही कीमत इमारत की ।

हमारे पास भी जख्मों भरा पूरा पिटारा है ,
मगर फुर्सत नहीं मिलती हमें उनसे शिकायत की ।

पुरानी नाव में उल्फत भरा सामान काफी था ,
मगर पतवार को खाई मुई दीमक सियासत की ।

डरी सहमी हुई कलियां चमन में झांक कर देखो ,
भरें बाजार नजरें झेलती है वो शरारत की ।

अजब इंसाफ है मगरूर को मशहूर कहने का ,
नहीं तहज़ीब है जिसमें जमाने से रवायत की ।

गवाही दे रही हैं सरहदें उस रात काली की ,
फिरंगी खींच कर भागे जहां पर लीक नफरत की ।

बज़ुर्गों का कहा अब कौन सुनता है यहां यारो ,
नहीं "हलधर"यहां कीमत विचारों की हिदायत की ।
 = जसवीर सिंह हलधर , देहरादून
 

Share this story