हिंदी ग़ज़ल = जसवीर सिंह हलधर

हिंदी ग़ज़ल = जसवीर सिंह हलधर

मुझे शहरी नहीं मानो निशानी गांव में भी है ।
यहाँ है नौकरी खेती किसानी गांव में भी है ।

न छोड़ी है जमीं मैंने भले ही आसमां चूमा ,
अभी माँ बाप की कुटिया पुरानी गांव में भी है ।

मेरे खुशहाल रहने की दुआ दिनरात करती है ,
मेरी माँ की बहुत सी मेजबानी गांव भी है ।

यहां बीती जवानी औ बुढापा दे रहा दस्तक ,
मगर बचपन की यादों की रवानी गांव में भी है ।

गवाही दे रहा है आज भी वो पेड़ बरगद का ,
वो जिसकी छांव ए सी से सुहानी गांव में भी है ।

कबूतर भी उड़ाते थे पतंगें भी उड़ाते थे ,
परिंदों के लिए कुछ आबोदानी गांव भी है ।

मुसाफिर हैं पहाड़ों में मुहाजिर मान मत लेना ,
अभी पहचान अपनी खानदानी गांव में भी है ।

अभी मत और कह "हलधर" बढ़ी सूची है शे'रों की ,
अगर उला यहाँ पर है तो सानी गांव में भी है ।
= जसवीर सिंह हलधर, देहरादून 
 

Share this story