राम नाम भजते रहो - कालिका प्रसाद

pic

राम   राम नाम जपते रहो,
राम नाम की महिमा अपरम्पार,
राम नाम कि जपो नित माला,
शान्त रहे मन की सब ज्वाला।

राम नाम कैसे भी गाओ
घर बैठे तीरथ फल पाओ,
राम नाम पियो नित घोट,
नहीं लगेगी कलियुग की चोट।

राम नाम की ओढ़ो चदरिया,
दूर हटे सब दुख की बदरिया,
राम नाम जो भी उच्चारे,
राम बने उसके रखवारे।

राम नाम से कर अनुराग,
झूठी जग से आशा त्याग,
राम नाम के रहो सहारे, 
बने रहो जन-जन के प्यारे।

राम नाम सुमिरन करने से,
मन निर्मल हो जाता है,
राम नाम को मन में रखो,
राम के दर्शन हृदय में करो।
- कालिका प्रसाद सेमवाल,
मानस सदन अपर बाजार,
रुद्रप्रयाग उत्तराखंड,
 

Share this story