गीत = अनिरुद्ध कुमार

गीत = अनिरुद्ध कुमार

सुंदर पीले, लाल अबीर, मनमोहे जागे तकदीर।
लेके रंगों की जागीर, झूमे राजा, रंक, फकीर।
सुंदर पीले, लाल अबीर......
             होली हरलै जीवन पीर, 
             बच्चा, बूढ़ा आज अमीर।
             रंग रंगाया हर शरीर, 
             नेहा बरसे छाती चीर।
             जीवन गाये मनवा धीर,
             चाहे लैला मजनूं हीर।
सुंदर पीले, लाल अबीर, मनमोहे जागे तकदीर।
लेके रंगों की जागीर, झूमे राजा, रंक, फकीर।
सुंदर पीले, लाल अबीर......
             जब जब लागे फगुनी तीर, 
             यौवन जागे प्रेम अधीर। 
             लाल, गुलाबी, बहे समीर, 
             दुनिया बन जाती कबीर।
             सबको देती देख नजीर, 
             हर्षित रह जीवन गंभीर।
सुंदर पीले, लाल अबीर, मनमोहे जागे तकदीर।
लेके रंगों की जागीर, झूमे राजा, रंक, फकीर।
सुंदर पीले, लाल अबीर......
             होली में कितनी तासीर, 
             सुंदर जीवन की तस्वीर।
             खुशियाँ छलके नैना नीर,  
             प्रेमी लगता कोई मीर।
             बेचैनी ना रहे अधीर, 
             फागुन तोड़े सब जंजीर।
सुंदर पीले, लाल अबीर, मनमोहे जागे तकदीर।
लेके रंगों की जागीर, झूमे राजा, रंक, फकीर।
सुंदर पीले, लाल अबीर......

= अनिरुद्ध कुमार सिंह, धनबाद, झारखंड।
 

Share this story