मां चन्द्रघण्टा सबको सुमति देना - कालिका प्रसाद 

pic

मां तुम ही सुबुद्धि दायनी,
भावों में ऊंची  उड़ान दो,

विचारों में पवित्रता देना,
नेह की राह बताओ मां,

वाणी   में   मधुरता   दो,
सुरभित हो ये सारा जहाँ,

विचलित मन को स्थिरता दो,
दूर करो मेरी सब दुविधा,

 मां चन्द्रघंटा रुप ममतामयी,
ज्ञान    अमृत  पिला दो मां,

 कभी किसी को न कष्ट दू,
ऐसी  बुद्धि  हमको  दो मां,

बहके  न मेरे   कभी कदम,
विचलित न  हो  कभी मन,

मां   हमको   तुम तार देना,
मां  सबको    सुमति  देना ।

- कालिका प्रसाद सेमवाल
मानस सदन अपर बाजार, रुद्रप्रयाग उतराखंड
 

Share this story