शहिदो की पावन धरा - मुकेश तिवारी 

pic

यह   शहिदो   की  पावन धरा है,
हिन्दुस्तान    है ,  इसका  नाम। 

नत  मस्तक   हों  हम एक साथ,
मिल  आज   गर्व  से करें प्रणाम।

हम  बंटे  जातियों   में  अनेक है,
देखो   दिल  से   फिर भी एक हैं।

नवभारत बने  जातपात को तोड़,
फिर जन्मे  भेद -भाव  को छोड़।

नये युग  को  ऐसा मिले  श्रमदान,
हटे  भ्रष्टता होवे गर्वित हिन्दुस्तान।

प्रेरणा देता',फिर अपना ये तिरंगा,
चलें  मिल बढें   विकास की और।

फिर  ऐसा  कुछ  करें गणतंत्र पर , 
याद करे सदियों प्यारा हिन्दुस्तान।
   
यह   शहिदो   की   पावन धरा है,
हिन्दुस्तान    है  ,   इसका  नाम।

नत   मस्तक   हों   हम एक साथ,
मिल  आज   गर्व   से  करें प्रणाम।
- मुकेश तिवारी वशिष्ठ - मध्यप्रदेश 
 

Share this story