हे बजरंगबली तुम्हें प्रणाम - कलिका प्रसाद 

pic

राम दूत तुम सबके रक्षक हो,
तुम ही तो बल बुद्धि के धाम हो,
हम सब तुमको वंदन करते है,
हे बजरंगबली तुम्हें प्रणाम।

तुम ही प्रेम के सच्चे स्वरूप हो,
तुम्ही दया के सागर हो कृपालु,
तुम कष्ट हरण नाशक हो दयालु,
हे बजरंगबली तुम्हें प्रणाम।

तुम ही सबके रक्षक हो स्वामी,
जो भी तुम्हारा नाम मन से जपे,
उसकी हर विपदा टल जाती है,
हे बजरंगबली तुम्हें प्रणाम।

प्रभु श्रीराम के तुम अति प्रिय हो,
सबको सुमति का दान दो,
विद्या विनय की तुम खान हो,
हे बजरंगबली तुम्हें प्रणाम।

- कालिका प्रसाद सेमवाल
अपर बाजार, रूद्रप्रयाग उत्तराखंड
 

Share this story