जलधारा हिंदी साहित्यिक संस्था की दिल्ली इकाई द्वारा ऑनलाइन लघुकथा गोष्ठी का आयोजन

pic

utkarshexpress.com दिल्ली। जलधारा हिंदी साहित्यिक संस्था (पंजीकृत)  के द्वारा संस्था की दिल्ली इकाई के अंतर्गत ऑनलाइन लघुकथा गोष्ठी का आयोजन वरिष्ठ साहित्यकार एवं लघुकथा की सिद्धहस्त कान्ता रॉय की अध्यक्षता में किया गया। गोष्ठी का आरंभ सरस्वती वंदना के साथ रेनु सिंह द्वारा किया गया।लघुकथा गोष्ठी में बबिता कंसल, रेनु सिंह, कान्ता रॉय, शावर भकत"भवानी" , डॉ.अंजु लता सिंह, नूतन गर्ग एवं रेनुका सिंह ने सन्देश प्रेरक, सारगर्भित एवं प्रेरणादायक लघुकथाओं का पाठ किया।
कार्यक्रम अध्यक्ष कान्ता रॉय ने बताया कि लघुकथा में नई पीढ़ी का आना सुखद अनुभूति है। पुराने ढर्रे से इतर नए रचनाकारों की लघुकथाओं में नए सवाल, नई प्रस्तुति के साथ वर्तमान समय की गूंज सुनाई  देती है।
कार्यक्रम संयोजन और संचालन जलधारा दिल्ली इकाई की मुख्य संयोजिका रेनुका सिंह ने किया एवं उनके द्वारा लघुकथा गोष्ठी की सफलता हेतु बधाई  संग धन्यवाद ज्ञापित किया गया।  सफल आयोजन के लिए बधाई देते हुए कार्यक्रम की विशिष्ट अतिथि एवं संस्था की संस्थापिका व राष्ट्रीय अध्यक्ष शावर भकत "भवानी" ने जलधारा हिंदी साहित्यिक संस्था के द्वारा जलसंरक्षण, नदियों, गंगा, प्रकृति, प्रदूषण रोकथाम, भारतीय आदिवासी, सामाजिक और राष्ट्रीय हित इत्यादि से जुड़े विषयों को लेकर निरंतर साहित्यिक जागरूकता लाने के उद्देश्य से  किये जा रहे प्रयासों एवं साहित्यिक कार्यों से अवगत कराया गया।

Share this story