कागज की नाव = ज्योत्सना रतूड़ी 

pic

बच्चे कागज की नाव बनाते, 
    बिना सोचे  पन्ना फाड़ते,
      देखो चेहरे पर मुस्कान है कैसी,
             पानी में फिर नाव तैराते।।
                  साथ में फिरकी भी करें तैयार, 
             तुम ही चलाओगे क्या नाव हर बार,
         अब तो दे दो बारी मेरी,
      देखो नाव चली अपनी मझधार।।
    काश लौट कर बचपना आता, 
         फिर से कागज की नाव बनाता, 
               पानी में उसको तैरा कर, 
                       दिल मेरा भी खुश हो जाता।।

 = ज्योत्स्ना रतूड़ी *ज्योति*  उत्तरकाशी, उत्तराखंड
 

Share this story