साथी = पूनम शर्मा 

pic

तू संग रहे हर पल सनम ,
फिर जी लेंगे सारे मौसम ।

संग- संग चलेंगे हम सदा ,
खुशियां हो फिर या हो गम।

साथ जो  मिल जाये तेरा  ,
तो दर्द भी हो जाएंगे कम ।

हर तम उस पल दूर हटेगा,
संग जलेंगे जब तुम और हम।

तू मुझमें मैं तुझमें बसती ,
बस एक है हम और तुम ।

हर मुश्किल तब दम तोड़ेगी ,
साथ चलेंगे जब तुम और हम ।

प्रीत के फिर हर एक धर्म, 
मिलकर संग निभाएंगे हम।

मैं तेरी सजनी बनूँ और ,
तू बन जा मेरा  सनम।
=पूनम शर्मा स्नेहिल, गोरखपुर, उत्तर प्रदेश
 

Share this story