प्रवीण प्रभाती - कर्नल प्रवीण त्रिपाठी

pic

<>
सनातन धर्म का आधार प्रकृति के साथ जुड़ना है।
हमारे धर्म की बातें प्रचारित आज करना है।
भरी समृद्धि थी अनुपम कभी प्राचीन भारत में,
बदल कर भ्रम भरी राहें विगत की ओर झुकना है।
<>
मातृ दुग्ध की कीमत कितनी, क्या कोई बतलायेगा?
कैसे माता दूध पिलाती, क्या ये कोई जानेगा?
धूप-छाँव सारा कुछ सहती, संतति का हित ध्यान धरे,
माता के उपकारों का ऋण, कौन चुका कब पायेगा?
- कर्नल प्रवीण त्रिपाठी, नोएडा / उन्नाव (उत्तर प्रदेश)

Share this story