प्रवीण प्रभाती = कर्नल प्रवीण त्रिपाठी

pic

राम मन बसा करें मनुज पे कृपा करें,
रघुनंदन नाम की महिमा अपार है।
हनुमत मन रहें बात सब लोग कहें,
सियाराम की सेवा जीवन आधार है।
जो न जपे राम नाम करे बाकी सारे काम,
ऐसे मानव का जन्म ही बेकार है।
पाप सब कट जाते विघ्न सब हट जाते
जपना श्री राम नित कर्मों का सुधार है।
<>
शुभ दिन रविवार मानव कर ले विचार,
बाधाएँ आदित्य नाम सब हर जाएगा।
भाष्कर को पूजकर उनको अर्घ्य देकर,
ॐ सूर्याय नमः जाप कष्टों को मिटाएगा।
नाम जो भी जपा करें दिनकर कृपा करें,
आशीष विवस्वान का मुक्ति दिलवाएगा।
भानु के वरदान से रवि के गुणगान से,
जीवन का संकट हर दूर हो पाएगा।
<>
नीलकंठ त्रिपुरारी सुनो विनय हमारी,
वसुधा पे आयी ये विपदा दूर कीजिए।
त्राहि त्राहि मची हुई महिती भी दुखी हुई,
विपदा मिट सके वो अभयदान दीजिये।
विषाणु कष्ट दे रहा, असंख्य  जान ले रहा,
वायरस रूप वाला गरल ये पीजिये।
हे कैलाश के निवासी, आप तो हैं अविनासी,
धरती का ये संकट अभी हर लीजिये।
= कर्नल प्रवीण त्रिपाठी, नोएडा/उन्नाव

Share this story