प्रवीण प्रभाती = कर्नल प्रवीण त्रिपाठी

pic

<>
हे  बजरंगी  दीजिये,  सब को ऐसी शक्ति।
सरस भाव उपजें हृदय, बढ़ती जाए भक्ति।।
मंगलमय मंगल दिवस, करते मंगलमूर्ति।
मंगल को हनुमत भजें, होगी इच्छापूर्ति।।
<>
हे गणेश सबकी करें, कुविचारों की शुद्धि।
हिंसा जिनमें व्याप्त है, गणपति भरिये बुद्धि।। 
घृणा परस्पर दूर हो, मिटें जगत के क्लेश। 
आतंकी जड़ से मिटें, रहे सुरक्षित देश।।
= कर्नल प्रवीण त्रिपाठी, नोएडा/उन्नाव

Share this story