बातें - अनिरुद्ध कुमार

pic

अनोखी अदायें चमत्कारी बातें,
जिगर में छुपाके धरी सारी बातें।
                  
हँसाये  रुलाये  न  भूले  भूलाये,
सदा याद आये हँसी प्यारी बातें।
                 
नहीं भूल पाते सुहाना वो बचपन,
सबों के लबों पर दुलारी सी बातें।
                   
चढ़ी जब जवानी हँसी कारिस्तानी,
जहाँ  को  सुनाये  दखलदारी बातें।
                    
उमर का तकाजा सदा तोले मोले,
समय काटने को मगजमारी बातें।
                   
मुसाफिर बने दूर सबको है जाना,
यहाँ  दिल लगाये हुनरकारी बातें।
                    
जमाना उलझ जिंदगी को बिताये,
जिगर  को  सुहाये मनोहारी बातें।
                       
यही है फसाना खुदा का नजराना,
जुबां  गुनगुनाये  तरफदारी  बातें।
                       
करे गुफ्तगू 'अनि' बड़ी दिल को भाये,
हमारी  तुम्हारी  अदाकारी  बातें।
- अनिरुद्ध कुमार सिंह, धनबाद, झारखंड

Share this story