गीत  = अनिरुद्ध कुमार

pic

अतुल प्रेम की रसधारा, चितवन करे विभोर
मृदुल वाणी मनमोहनी, रह-रह उठे हिलोर।।
             चंचल काया उलझाये,
             चित व्याकुल हो मुरझाये।
             जीवन पथ है निर्धारित,
             इधर उधर क्यों भरमाये।
कदम उठा चलो मुसाफिर, होगी सुंदर भोर।
मृदुल वाणी मनमोहनी, रह-रह उठे हिलोर।।
              पाया, खोया जोड़ रहे,
              काहे बंधन तोड़ रहे।
              मालिक की चलती मरजी,
              नाहक माथा फोड़ रहे।
स्थिर होकर सोंचो प्राणी , बैठना क्या अगोर।
मृदुल वाणी मनमोहनी, रह-रह उठे हिलोर।।
               कर्म सदा मन बहलाये,
               सही राह पर ले जाये।
               प्यार और अनुराग बढ़े,
               मन का सुगना मुस्काये।
नैन पुतरिया तृप्त लगे, नाच उठे मन मोर।
मृदुल वाणी मनमोहनी, रह-रह उठे हिलोर।।
               शीतलता सबको भाये, 
               राह सुगम तन-मन गाये।
               रमता जोगी झूम चले, 
               पुष्प सरीखा खिल जाये।
भय विहीन मन इतराये, जीवन जागे जोर।
मृदुल वाणी मनमोहनी, रह-रह उठे हिलोर।।
= अनिरुद्ध कुमार सिंह, धनबाद, झारखंड

Share this story