सफलता = ममता जोशी 

pic

मन में रख तू एक आस्था,
अपने पर रख तू विश्वास ।
सफलता एक दिन जरूर मिलेगी,
अपने में रख तू ये आस ।।
तू सौ बार गिरेगा,
मन उदास न कर ।
बस एक ही उद्देश्य रख,
उडान चाहे कितनी भी भर ।।
गिराने वाले कम नहीं होंगे,
सफलता उसे  मिलती है ।
जो गिर के उठता ,उठकर गिरता,
और जो गिर कर सम्भलता है ।।
जो गिरकर उठ न सखे ,
कायर होकर भाग जाये ।
किसी के काम न आये ,
सफलता उससे दूर भागे ।।
जिन्दगी बहुत खुबसूरत भी हैं,
और कांटो की राह भी है ।
जिसने दोनो पर चलना सिखा ,
सफलता ने उसके घर का रास्ता देखा ।।
= ममता जोशी, प्रताप नगर
टिहरी गढ़वाल उत्तराखंड

Share this story