प्यार की खुश्बू - अनिरुद्ध कुमार 

pic

गजब माहौल कल का था, हवा में प्यार की खुश्बू,
गरमजोशी मुहब्बत की, मिलन में यार की खुश्बू।
                           
लौट आये सभी अपने,  बिताकर दु:ख भरी रातें,
भोर लगता सुहाना सा, खिले कचनार की खुश्बू।
                             
गुफ्तगू हर घड़ी होती,  गुजारे जिंदगी का पल,
दौर अब तक नहीं भूले, दिले लाचार की खुश्बू।
                             
वक्त ने रंग दिखलाया, खुशी दिल को लुभाये रब,
धड़कने जोर बढ़ जाती, लिये दिलदार की खुश्बू।
                               
थिरकते पांव की सरगम, निगाहों को मजा देती,
बांवरा हो गया हर दिल, मधुर झंकार की खुश्बू।
                               
कदम अब बढ़ चले आगे, ठिकाना पास आनेको,
नजर भी और क्या चाहे, फक़त दीदार की खुश्बू।
                                
रौशनी रंग दिखलाये, बहारों संग 'अनि' गाये,
हँसी बागे बहारो में, खिले गुलनार की खुश्बू ।
- अनिरुद्ध कुमार सिंह, धनबाद, झारखंड

Share this story