स्वागत है शरद ऋतु का  - शिप्रा सैनी

pic

शुभ आगमन ,शुभ आगमन ।
शरद की शीतल सुबह ,
धुंध की चादर लपेटे ।
है सुगंधित सी हवा ,
सौरभ शिउली की समेटे।
हल्की  सिहरन उठ रही ,
निम्न होते ताप पर ।
है पुलक फैला हुआ।
शरद के पदचाप पर ।
रश्मियाँ ये सूर्य की ,
भरती हैं एक ताजगी।
ओस की बूँदे धरा पर,
सर्दियों की बानगी।
सबसे सुंदर है सुहाना,
शरद ऋतु का आगमन
खाते- पीते चाव से सब,
हैं घूमते-फिरते मगन।
स्वागत है शरद ऋतु का,
शुभ आगमन ,शुभ आगमन।

- शिप्रा सैनी (मौर्या), जमशेदपुर
 

Share this story