ब्लैक फंगस की महिला मरीज की आंख और आधे जबड़े को निकालना पड़ा

uttarakhand

Utkarshexpress.com हल्द्वानी। सुशीला तिवारी अस्पताल (एसटीएच) में ब्लैक फंगस की एक मरीज की आंख और आधे जबड़े को निकालना पड़ा। करीब साढ़े पांच घंटे तक महिला की सर्जरी हुई। डॉक्टरों के अनुसार एसटीएच में ब्लैक फंगस के मरीज की यह अब तक की सबसे बड़ी सर्जरी है।
ईएनटी विभाग के विभागाध्यक्ष डॉ. शहजाद ने बताया कि ऊधमसिंह नगर निवासी 47 साल की महिला को कोविड हुआ था। कुछ दिन पूर्व उसके चेहरे में सूजन आई गई। उसे दिखाई भी कम देने लगा। वह चार दिन पहले अस्पताल पहुंची थी। जांच में ब्लैक फंगस की पुष्टि हुई। सीटी स्कैन कराने पर बीमारी की गंभीरता का पता चला। इसके बाद ईएनटी, नेत्र रोग विभाग, एनेस्थीसिया विभाग के डॉक्टरों की टीम ने सर्जरी करने का फैसला किया। बीमारी के दूसरे अंगों तक फैलने की आंशका थी। शनिवार को मरीज की सर्जरी की गई, जो करीब साढ़े पांच घंटे तक चली। ऑपरेशन करने वाली टीम में डॉ. नितिन मेहरोत्रा, डॉ. एके सिन्हा, डॉ. नीलम शमिल थे। एसटीएच के चिकित्सा अधीक्षक डॉ. अरुण जोशी ने बताया कि ब्लैक फंगस का एक ऑपरेशन हुआ है। अस्पताल में ब्लैक फंगस के बीस और संदिग्ध मरीज भर्ती हैं। इसमें एक की हालत नाजुक है। रोगी को आईसीयू में रखा गया है, जहां उसकी हालत स्थिर है। ब्लैक फंगस के अन्य मरीजों की सर्जरी हुई है, पर यह अब तक की सबसे बड़ी सर्जरी है।

Share this story