कुंभ मेले के लिए मेला प्रशासन ने जारी किया हेल्प लाइन नंबर 1902 

कुंभ मेले के लिए मेला प्रशासन ने जारी किया हेल्प लाइन नंबर 1902

हरिद्वार।कुंभ मेले के लिए मेला प्रशासन ने हेल्प लाइन नंबर 1902 की शुरुआत की है। इस नंबर पर कुंभ से जुड़ी कोई भी जानकारी हासिल की जा सकेगी। मंगलवार को पुलिस महानिरीक्षक (कुंभ) संजय गुंज्याल ने मेला नियंत्रण भवन में हेल्प लाइन का विधिवत शुरू किया। 

गुंज्याल ने बताया कि हेल्प लाइन नंबर का मकसद विभिन्न प्रदेशों से आने वाले श्रद्धालुओं को कुंभ मेले से जुड़ी जानकारी उपलब्ध कराना है। हेल्प लाइन से स्नान पवरें से लेकर रूट प्लॉन, डायवर्जन, पार्किंग, निकटवर्ती गंगा घाटों, रजिस्ट्रेशन प्रक्रिया, कोविड गाइडलाइन की एसओपी और स्वास्थ्य सुविधाओं के साथ ही शहर के भूगोल की जानकारी भी मिल सकेगी। हेल्प लाइन के 24 घंटे संचालन के लिए दो दारोगा और 12 हेड कांस्टेबल की तैनाती की जा रही है। इस अवसर पर अपर पुलिस अधीक्षक संचार मुकेश ठाकुर और पुलिस उपाधीक्षक संचार विपिन कुमार भी मौजूद थे। 

बैरागी कैंप और गौरी शंकर क्षेत्र में अब तक 50-50 बेड का अस्थायी अस्पताल शुरू नहीं हो पाया है। अस्पताल संचालन तो दूर यहां मूलभूत सुविधाएं भी अब तक उपलब्ध नहीं कराई गई है। हालांकि, मेला अधिष्ठान इस महीने के अंत तक अस्पताल संचालन का दावा कर रहा है। पेंच स्टाफ को लेकर फंसा है। कुंभ मेले के साथ ही शाही स्नान की तिथियां भी नजदीक है। बड़ी संख्या में बैरागी संत हरिद्वार पहुंचने लगे हैं। लेकिन, मेला अधिष्ठान अभी तक पर्याप्त व्यवस्था नहीं करवा पाया है। इससे बैरागी संतों में भारी नाराजगी है। शौचालय, पेयजल तो दूर भूमि आवंटन का मामला भी अभी तक उलझा है। मेला स्वास्थ्य विभाग की ओर से बैरागी कैंप में 50 बेड का अस्थायी अस्पताल बनाया जाना प्रस्तावित है। लेकिन, अब तक अस्पताल से जुड़ी तैयारियां धरातल पर नहीं दिख रही है। ऐसे में बैरागी संतों की भीड़ उमड़ने पर मेला अधिष्ठान की मुश्किलें बढ़ सकती है। गौरी शंकर में भी अब तक 50 बेड का अस्पताल शुरू नहीं हो पाया है। मेला स्वास्थ्य विभाग स्टाफ का पेंच बता रहा है। स्वास्थ्य सेवाएं कब तक सुचारू हो पाएगी इसका ठोस जवाब जिम्मेदारों के पास नहीं है।

Share this story