हिमालय क्षेत्र में पर्यावरण के लिए आफत बनी कीड़ा जड़ी 

uttarakhand

Utkarshexpress.com चमोली। उच्च हिमालय वाले इलाकों में एक बेसकीमती जड़ी मिलती है। मौजूदा समय में इस जड़ी की कीमत सोने के भाव जैसा है। इस जड़ी को यारसागंबू यानि कीड़ा जड़ी कहते हैं। यौन शक्ति बढ़ाने में यह जड़ी काफी असरदार है। यही वजह है कि इसे हिमालयी वियाग्रा के नाम से भी जाना जाता है। लेकिन पिछले कई सालों से इस जड़ी का अत्यधिक दोहन हो रहा है। इसको लेने के लिए बड़ी संख्या में स्थानीय ग्रामीण बुग्यालों व हिमालय की तलहटी में पहुंच जाते हैं, हालांकि ग्रामीणों को वन विभाग की ओर से इसे निकालने की अनुमति दी जाती है, लेकिन अब नेपाली मूल के लोग भी कीड़ा जड़ी की खोज में उच्च हिमालय क्षेत्रों में पहुंच रहे हैँ। बकायदा बुग्यालों में टेंट कॉलोनी बनाई जा रही है। हिमालय क्षेत्र में बढ़ता मानवीय हस्तक्षेप दैवी आपदाओं का जन्म दे रहा है। यही वजह है कि हिमस्खलन, अतिवृष्टि और भूस्खलन की घटनाओं में इजाफा हो रहा है। प्रसिद्ध पर्यावरणविद चंडी प्रसाद भट्ट बताते हैं कि बुग्यालों में लोग नंगे पांव जाते थे। हिमालय क्षेत्र इतना सेंस्टिव है कि यहां ऊंची आवाज में भी बात नहीं की जाती थी, लेकिन आज कीड़ा जड़ी के दोहन के लिए उच्च हिमालय क्षेत्र में लोगों की आवाजाही बढ़ गई है। यह पर्यावरण के लिए घातक है। हाल ही में जब ऋषि गंगा की आपदा घटित हुई तो ऋषि गंगा के उद्गम क्षेत्र में ग्लेशियरों में दरारें पड़ी होने की सूचना ग्रामीणों ने प्रशासन को दी। प्रशासन के आग्रह पर शासन से वैज्ञानिकों की एक टीम हेलीकॉप्टर से क्षेत्र में भेजी गई। वैज्ञानिकों को ग्लेशियरों में दरारें तो नहीं दिखी लेकिन यहां कई जगहों पर लगे टेंट उन्हें हैरान कर गए। वैज्ञानिकों ने शासन के सम्मुख इस पर चिंता भी व्यक्त की। कीड़ा जड़ी एक निश्चित समय सीमा तक ही मिलती है। ग्रामीणों को इसके दोहन का हक है, लेकिन सरकार को पर्यावरण संरक्षण के लिए कीड़ा जड़ी के दोहन की विशेष नीति बनानी चाहिए, जिससे पर्यावरण को कोई नुकसान न पहुंचे। 
कोरोना के कारण घरों में ही सड़ रही कीड़ा जड़ी कीड़ा जड़ी का सबसे बड़ा बाजार चीन है। नेपाल के रास्ते कीड़ा जड़ी चीन पहुंचाई जाती है। कोरोना के कारण कीड़ा जड़ी का कारोबार ठंडा पड़ गया है। बीते वर्ष ग्रामीणों की ओर से लाई गई कीड़ा जड़ी भी घरों में कैद होकर रह गई है। चीन में कीड़ा जड़री की कीमत लगभग 20 लाख रुपये प्रति कीलोग्राम है। 

Share this story