भगवान कृष्ण का जन्मदिवस हर्षोल्लास के साथ मनाया 

uk

Utkarshexpress.com देहरादून: भगवान कृष्ण का जन्मदिवस आज हर्षोल्लास के साथ मनाया जा रहा है। कन्हैया के स्वागत को द्रोणनगरी तैयार है। मंदिरों को रंगीन लाइट और फूल मालाओं से सजाया गया है। बीते वर्ष कोरोना संक्रमण के चलते शहर में कोई आयोजन नहीं हो सका था। लेकिन इस साल सीमित संख्या एवं कोरोना गाइडलाइन के साथ शहर में कई कार्यक्रम होने जा रहे हैं। पर्व को मनाने को लेकर उत्साहित हैं। अष्टमी पर व्रत धारण कर जहां लोग इस दिन पूजा करेंगे, वहीं मंदिरों में देर रात तक जन्मोत्सव मनाने के लिए कलाकारों द्वारा कीर्तन, भजन, मटकी फोड़ की प्रस्तुति भी होंगी। इस साल पुलिस लाइन में भी भव्य आयोजन होने जा रहा है। समारोह में राज्यपाल बेबी रानी मौर्य और मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी भी शिरकत करेंगे। उत्तराखंड विद्वत सभा के प्रवक्ता आचार्य बिजेंद्र प्रसाद ममगाईं ने कहा कि धार्मिक मान्यताओं के अनुसार भगवान श्रीकृष्ण का जन्म भाद्रपद माह के कृष्ण पक्ष की अष्टमी तिथि को रोहिणी नक्षत्र में हुआ था। सोमवार को पूरे दिन जन्माष्टमी रहेगी और 12 बजे तक जागरण, पूजन, वंदन किया जा सकता है। बताया कि अष्टमी तिथि को मध्यरात्रि में भगवान श्रीकृष्ण का जन्म हुआ था। धर्मशास्त्रों के मुताबिक व्रत हमेशा उदय तिथि में रखा जाता है, ऐसे में व्रत व पर्व सोमवार यानी 30 को मनाया जाएगा। इस दिन रोहिणी नक्षत्र वृष राशि में चंद्रमा का अद्भुत संयोग है। रविवार को रात 11:25 बजे शुरु हुई अष्टमी तिथि सोमवार देर रात 1:59 बजे तक रहेगी। 101 वर्ष बाद इस दिन जयंती योग बन रहा है।
सुबह जल्दी उठकर नहाने के बाद व्रत का संकल्प लें। अब माता देवकी और भगवान श्रीकृष्ण की मूर्ति या फोटो को पालने में रखें। पूजा करते समय देवकी, वासुदेव, बलदेव, नंद बाबा, यशोदा का नाम जपें। रात में 12 बजे के बाद श्रीकृष्ण का जन्मोत्सव मनाएं। उनका अभिषेक पंचामृत से करें और उन्हेंं नए वस्त्र अर्पित करें। अब उन्हेंं झूला झुलाएं और पंचामृत में तुलसी डालकर माखन-मिश्री और धनिये की पंजीरी का भोग लगाएं। अब आरती करें और प्रसाद भक्तजनों में वितरित करें। जन्माष्टमी पर इस बार अंतरराष्ट्रीय कृष्ण भावनामृतम संघ (इस्कान) ओएनजीसी के सामुदायिक केंद्र में दो दिवसीय कार्यक्रम आयोजित करेगा। इसके अलावा चैतन्य गौड़ीय मठ डीएल रोड, श्याम सुंदर मंदिर पटेलनगर, पृथ्वीनाथ महादेव मंदिर, आदर्श मंदिर समेत शहर के विभिन्न मंदिरों को सजाया गया है। कृष्ण जन्मोत्सव पर भजन, नृत्य, संगीत की मनमोहक प्रस्तुति देंगे।

Share this story