अनमोल - सुनील गुप्ता

pic

 (1)"अ ", अमर हैं अनमोल हैं हम 
              धन्य ये जीवन मिला  !
              है प्रभु की कृपा अपार....,
              जो उपहार स्वरूप जीवन मिला !!
(2)"न ", नमन वंदन प्रभु हमारा
             इस जीवन को है आपने संवारा  !
             झोली भर दी, सौगातों से....,
             पग-पग पे हमको संभाला  !!
(3)"मो ", मोल समझ के इस जीवन का
              जीवन के लक्ष्यों को पाएं  !
              बढ़ते जाएं सत्य पथ पर...,
              जीवन को हम सफल बनाएं !!
(4)"ल ", लय ताल कभी ना बदलें
              तय रास्तों पे ही बढ़ते जाएं  !
              प्रभु पे रखके विश्वास अपना...,
              अपनी मंज़िल को हम पाएं!!
(5)"अनमोल ", अनमोल थे ,अनमोल हैं हम
                 अनमोल ही यहां बनें रहेंगे  !
                 हैं हम ईश्वर के हस्ताक्षर....,
                 सदा नाम रोशन प्रभु का करेंगे !!
- सुनील गुप्ता (सुनीलानंद), जयपुर, राजस्थान

Share this story