जाप करें गिरधारी - अनिरुद्ध कुमार

pic

मन मोहे छवि लीलाधारी, जय बोल रहें नरनारी।
हे कान्हा हे मुरली धारी, बोलें सुन अर्ज हमारी।।
अंतरयामी हे बनवारी, बहुत कठिन दुनियादारी।। 
जीना अब तो लगता भारी, प्रभु जान रहें लाचारी।

जीवन जंजालों में उलझा,अब दर्द मिटा दें मन का।
अंजानी यह दुनिया सारी, देखो प्राण अधर लटका।
हे नटवर अब कल्याण करें, लोगों का उत्थान करें।
सब शीश नवां के ध्यान धरें,राधा मोहन जाप करें।। 

अंजानी सी दुनिया लगती, काया माया का रटना।
धन-दौलत से सब प्यार करें, हर कोई देखे सपना।
लोभी दुनिया लगती सारी, कैसी फैली बीमारी।
कितना बतलाये लाचारी, नित जाप करें गिरधारी।।
- अनिरुद्ध कुमार सिंह, धनबाद, झारखंड
 

Share this story