ग़ज़ल हिंदी - जसवीर सिंह हलधर 

pic

बिना पूछे  हमें जो भी सफ़ाई दे रहा है ।
वही षड्यंत्र में शामिल दिखाई दे रहा है ।

किसी उजड़े हुए को घर बसाने की खिलाफ़त ,
उसी  के  भाषणों  में अब सुनाई  दे रहा है ।

उसे अंधा किया है राजनैतिक लालचों ने ,
लहू के रंग जैसी वो हिनाई दे रहा है ।

हुआ बीमार ख़ुद है रोग है उसकी ज़ुबा पर ,
किसानों को बिना मांगे दवाई दे रहा है ।

बयानों में सियासत ख़्वाब में है राजधानी ,
वही हमको हराने की दुहाई दे रहा है ।

दलालों से संभालना काम है हर इक बशर का ,
सही रस्ता यही हमको सुझाई दे रहा है ।

तिरंगा हाथ में ले आग विघटन की दिखाता ,
वही सरकार को "हलधर" बुराई दे रहा है ।
-जसवीर सिंह हलधर , देहरादून
 

Share this story