निभाता उम्र भर तेरा साथ - गुरुदीन वर्मा

pic

निभाता उम्रभर तेरा साथ, काम और भी है जरूरी।
छोड़ता तेरा नहीं मैं हाथ, समझ लो तुम मजबूरी।।
निभाता उम्रभर तेरा साथ------------------।।
ऐसा भी नहीं मैं तेरी, समझता नहीं हूँ जरूरत।
चुराता नहीं नजर तुमसे, रस्में और भी है जरूरी।।
निभाता उम्रभर तेरा साथ------------------।।
करूँ क्या तुमसे शिकायत, मिला क्या तुमसे नहीं।
देता मैं तुमको ताजमहल, चाहत और भी है अधूरी।।
निभाता उम्रभर तेरा साथ------------------।।
ऐसा क्या तुम चाहोगे, उम्मीद जो नहीं हो मुकम्मल।
बनाता तेरी भी मूरत , पहले तो घर है जरूरी।।
निभाता उम्रभर तेरा साथ------------------।।
कोशिश यह कर रहा हूँ , अमर हो अपनी कहानी।
होता नहीं मैं जी आजाद , मंजिल मेरी है अधूरी।।
निभाता उम्रभर तेरा साथ-----------------।।
- गुरुदीन वर्मा.आज़ाद
तहसील एवं जिला- बारां(राजस्थान)
मोबाईल – 9571070847
 

Share this story