हिंदी ग़ज़ल - जसवीर सिंह हलधर 

pic

वबा की मार खाये आंकड़े आराम करते हैं ।
दवा से तिलमिलाये फेंफड़े आराम करते हैं ।

सियासत ने गढ़े मुर्दे उखाड़े हैं बहुत यारो ,
इन्हें कैसे दबाएं फावड़े आराम करते हैं ।

मिठाई से महक गायब हुई है आज पर्वों पर ,
मुहब्बत गंध वाले केवड़े आराम करते हैं ।

समंदर दर्द अपना कह रहा है रोज रो रो कर ,
मिसाइल से डरे हैं केकड़े आराम करते हैं ।

कहीं बछड़े बिलखते हैं कटीली बाड़ से घायल ,
गले में जो पड़े थे जेवड़े आराम करते हैं ।

हवस मसरूफ़ है ग़द्दारियों का खेल जारी है
सुरक्षा में लगे कुछ खोपड़े आराम करते हैं ।

रियाया को लुभाने का नया जुमला कहो "हलधर",
चुनावी वायदों में झोंपड़े आराम करते हैं ।
- जसवीर सिंह हलधर , देहरादून
 

Share this story