कतिपय दोहे --  नीलू मेहरा

pic

1️⃣
आई तिथि शुभ चौथ की, गणपति आये द्वार।
दिव्य रूप सुन्दर सजे, गल पुष्पों के हार।।
2️⃣
ऋद्धि-सिद्धि दाता तुम्हीं, हे गणपति गणराज।
प्रथम पूज्य तुम सर्वदा, करते पूरण काज।।
3️⃣
विघ्न विनाशक हे प्रभू, गौरी नन्दन लाल।
चमक रहा सिन्दूर से, भव्य अलौकिक भाल।।
4️⃣
बप्पा प्यारे आ गये, लगते वंदनवार।
ढोल - नगाड़े बज रहे, सजते अनुपम द्वार।।
5️⃣
घर आँगन सब से रहे, स्वागत करते लोग।
पूजन आराधन करें, और लगाते भोग।।
6️⃣
विघ्न हरे, मंगल करे, भक्त करें गुणगान। 
एकदन्त के जाप से, मिलता है सम्मान।।
7️⃣
चालीसा के पाठ से, मिटते कष्ट अपार।
बाधायें सब दूर हो, मिले विजय का हार।।
8️⃣
धूप दीप से आरती, करते भक्त सुजान।
सारा जग है पूजता, गणपति बड़े महान।।
9️⃣
जयकारे से जता, गणपति का दरबार।
बप्पा प्यारे नाम से, होता है उद्धार।।
🔟
वक्रतुण्ड का नाम ही, विघ्नों का है काल।
मूषक वाहन है सजे, मस्तक मुकुट विशाल।
 - नीलू मेहरा, कोलकाता (प० ब०) 

Share this story