विजय सुनिश्चित है - जि. विजय कुमार 

pic

कभी अंत न देखो,
क्योंकि आरंभ से ही अंत है।

कभी सुखः न देखो,
क्योंकि कष्ट से ही सुखः प्राप्त होता है।

कभी विजय से गर्व न करो,
क्योंकि पराजय से ही विजय प्राप्त होती है।

भूत के लिए न सोचो,
भविष्य के लिए न सोचो,
भविष्य भी अगले दिन का भूत है। 
भूत भी एक दिन का कल है।
इसलिए आज के लिए ही सोचो।
 
न अपनों के लिए सोचो,
न परायों के लिए सोचो,
केवल अपने धर्म के लिए ही सोचो।

आरंभ से ही प्रयत्न और परिश्रम करो
 अंत में विजय सुनिश्चित है।
- जि. विजय कुमार, हैदराबाद, तेलंगाना
 

Share this story