जागो - राजीव डोगरा 

pic

जागो एक बार 
अपनी अंतरात्मा की
आवाज़ के लिए।
जागो एक बार
अपने हृदय में पनपत्ति 
अभिलाषाओं के लिए।
जागो एक बार 
अपने अंतर्मन में छिपी 
सत्यनिष्ठा के लिए।
जागो एक बार 
अपनी स्वतंत्रता की 
मर्यादा को 
कायम रखने के लिए।
जागो एक बार 
स्वयं के अंतर्मन में छिपी 
अन्तर्रात्मा को
जगाने के लिए ।
- राजीव डोगरा 
पता-गांव जनयानकड़, कांगड़ा हिमाचल प्रदेश

Share this story