कौन कयाम करता है - अनिरुद्ध कुमार

pic

              (१)
कौन बोलो सलाम करता है,     
गरज पर राम राम करता है। 
                 (२)
जिंदगी जानती कलाबाजी,
मोल बातें तमाम करता है। 
                  (३)
प्यार का रंग भी अजीब लगे,
फायदा सोंच काम करता है। 
                   (४)
ये नजाकत अँदाज नजराना,
देख जीना हराम करता है। 
                   (५)
चाव में दाव घाव दिखता है,
तौल के लोग नाम करता है। 
                    (६)
मतलबी बात राग अफसाना,
रोज तकियाकलाम करता है। 
                     (७)
देखके'अनि' सदा बहक जाता,
कौन किसपे कयाम करता है। 
- अनिरुद्ध कुमार सिंह, धनबाद, झारखंड

Share this story