नया साल - अनूप सैनी

pic

नया साल 
आया है आज
चला जायेगा कल
यूँ ही जैसे
होती है सुबह रोज
ढलती है शाम
औऱ आती है रात 
लेके तारें अगणित
फिर क्या है नया
जो मना रहे है जश्न
सब खो के एक साथ
यूँ हो के मगन
क्या कर रहे हैं
जो नया है 
अभिनव है
क्या है ऐसा जो
दे सकते है हम समाज को
जो ले जाये हमें आगे और आगे
जिसमें निहित हो
 शक्तियां नव सर्जन की
निहित हो सब का कल्याण
जो धोने वाला हो मैल
मन की
मिटाने वाला हो फासले
दिलों के
जो बढ़ाने वाला हो प्रीत
मिटाने वाला हो भावना वैर की
उडा दे जो गर्द  जमीं है
जो रिश्तों पर
आ जाये उनमें फिर से
वो मिठास, वो रवानी
जो छुड़ाए कुरीतियां 
समाज की
बढ़ाये भाई चारा देश में
जो तोड़ दे बंधन
जात पांत के
जो मिटा दे भेद देश धर्म का
सीखा दे पाठ भ्रातृ भाव का
जहाँ पट जाए खाई
गरीबी और अमीरी की
जहाँ पानी पिये सब 
एक ही घाट का
जहां मिटे अंधेरा अज्ञानता का
ज्ञान की फिर इक लौ जले
जो नया है उसे ग्रहण करें
औऱ जो पुराना है
उससे शिक्षा लें
छोड़ कर भावना तेरी मेरी
'हम' का भाव एक साथ चले
बचना सीखें बुराइयों से हम
अच्छाई ग्रहण करते चलें
फिर जो सुबह होगी वो
शिव होगी, सुन्दर होगी
सार्थक होगा फिर अपना
नव वर्ष मनाना।।
- अनूप सैनी 'बेबाक़',,झुंझुनूं, राजस्थान

Share this story