बुलंदी साहित्यिक संस्था ने 370 घण्टे के ऑनलाइन कवि सम्मेलन का बनाया नया विश्व रिकार्ड - विवेक बादल बाजपुरी   

pic

utkarshexpress.com पिण्डवाड़ा(राजस्थान) - विश्व के सबसे बड़े बुलन्दी साहित्यिक ऑनलाइन कवि सम्मेलन जिसने लगातार 300 घंटे तक काव्य पाठ करने का सफर सफलतापूर्वक पूरा करने के साथ ही कार्यक्रम को आगे बढ़ाकर 370 घंटे का एक नया रिकॉर्ड भी दर्ज किया। 
बुलंदी संस्था के मीडिया प्रभारी गुरुदीन वर्मा ने बताया कि समस्त टीम ने कार्यक्रम को सफल बनाने के लिए अपने -अपने  कर्त्तव्यों का बख़ूबी निर्वहन किया,  कार्यक्रम को सुचारू रूप से चलाने के लिए कार्यक्रम को छः सेशनों में संचालित किया गया जिसमें शेड्यूल तथा संचालन कार्य , सुरभि खनेडा़, अक्षिता रावत, ममता नेगी, रिषभ कौरव, अनामिका चौकसे, अनामिका भट्ट, कशिश चौहान, नीलेश कुमार, अमिता गुप्ता, एकता गुप्ता, अभिषेक मिश्रा, मातृका बहुगुणा, विकल बहराइच , शोभा"समीक्षा", सत्यार्थ दीक्षित, विपुला जैन , प्रतिक्षा पाण्डेय, नव्या गुप्ता , प्रमिला पाण्डेय ने किया , साथ ही टेक्निकल टीम में रिंकू निगम, हारून राशिद, नवीन आर्या, अभिषेक, रविकांत यादव , लेखिका ने अपना पूरा पूरा सहयोग किया।  इस कार्यक्रम में देश के ही नहीं अपितु विदेशों में रह रहे भारतीयों ने भी बढ़-चढ़कर अपनी भागीदारी दिखाई । कार्यक्रम में थाइलैड, कनाड़ा, मारीशस, आस्ट्रेलिया, कुवैत, सऊदी अरब, केलिफोर्निया ,जकार्ता, इंडोनेशिया,पुर्तगाल, ओमान, बहरीच,वाशिंगटन, दोहा  कतर,  मास्को  रूस, जर्मनी , दुबई समेत 35 देशों के लगभग 2290 हिन्दी कवि इस महायज्ञ में शामिल हुए, बुलंदी की समस्त टीम इस सफलता के लिए बधाई की पात्र है जिन्होने अपना अपना पूरा सहयोग देकर कार्यक्रम को इस मुकाम तक पहुचाया। आदरणीय विवेक बादल बाजपुरी संस्थापक और पंकज शर्मा संरक्षक की विशेष देखरेख एवं मार्गदर्शन और समस्त टीम के सहयोग से कार्यक्रम के सफर का समापन हुआ। संस्थापक विवेक बादल बाजपुरी ने मीडिया प्रभारी गुरुदीन वर्मा को जानकारी देते हुए बताया कि कार्यक्रम के समापन के बाद अब वे निरन्तर नवोदित कलमकारों को मंच देने के लिए अग्रसर रहेंगे। संस्थापक बाजपुरी ने इस अंतर्राष्ट्रीय ऑनलाइन कवि सम्मेलन में हिस्सा लेने वाले सभी प्रतिभागियों का धन्यवाद और आभार व्यक्त किया।

Share this story