काव्य कॉर्नर फाऊंडेशन नया आयाम, नई रोशनी विशिष्ट उपलब्धियाँ - डॉ पूजा गंगानिया

pic

utkarshexpress.com पिण्डवाड़ा(राजस्थान)- कला, संस्कृति, साहित्य एवं समाज सेवा को समर्पित काव्य कॉर्नर फाउंडेशन एक अंतर्राष्ट्रीय संस्था है। संस्था ने हाल ही में विभिन्न क्षेत्रो की गतिविधियों को नया आयाम देते हुए शिक्षक दिवस के अवसर पर देश- विदेश के 60 से अधिक शिक्षकों एवं रचनाकारों एकलव्यम् शिक्षक सम्मान से सम्मानित किया गया। देश के कोने कोने से चयनित किए हुए शिक्षकों को सम्मानित करना संस्था के लिए गौरव का विषय रहा।
हिंदी दिवस के अवसर पर राजभाषा हिंदी पर प्राप्त 36 श्रेष्ठ रचनाओं में तीन रचनाकारों को प्रथम, द्वितीय, तृतीय तथा पाँच रचनाकारों को सांत्वना पुरस्कार हेतु चयनित किया। साथ में तीन श्रेष्ठ चित्रकारों के लिए भी प्रथम, द्वितीय व तृतीय की घोषणा कर अद्वितीय उदाहरण प्रस्तुत किया।
मीडिया प्रभारी गुरुदीन वर्मा के अनुसार सभी सम्मान प्राप्त शिक्षको,  विजयी सफ़ल रचनाकारों एवं चित्रकारों तथा प्रतियोगिता में सहभागिता करने वाले सभी प्रतियोगियों को काव्य कॉर्नर फ़ाउंडेशन परिवार की ओर से हार्दिक बधाइयाँ शुभकामनाएँ दी गई।
संस्था की संस्थापिका  डॉ पूजा गंगानिया ने बताया कि विशेष अवसरों/दिवस पर पोस्टर के माध्यम से महान विभूतियों को नमन वंदन करना, रचनाकारों की रचनायें प्रकाशित करना, विभिन्न प्रांतो में आनलाइन के साथ- साथ मंचीय कवि सम्मेलन/गोष्ठियाँ एवम् समाज सेवी साक्षात्कार श्रृंखला आयोजित करके संस्था साहित्य, कला, समाज सेवा के प्रचार प्रसार में सक्रिय रहती है। जो अपने आप में बहुत बड़ा सराहनीय और प्रशंसनीय कार्य है। 
मीडिया प्रभारी के अनुसार इन सभी गतिविधियों को सफ़ल बनाने के लिए संस्था की  संस्थापिका, समाज सेवी एवम् बेटी बचाओ-बेटी पढ़ाओ अभियान की जिला संयोजिका (गौतमबुद्ध नगर) डा. पूजा सिंह गंगानिया ने सह- संस्थापक अमित चौहान, राष्ट्रीय  कार्यकारी अध्यक्ष राजपाल यादव, राष्ट्रीय उपाध्यक्ष मृत्युंजय कुमार श्रीवास्तव राष्ट्रीय महासचिव शिल्पी चौहान,राष्ट्रीय कोषाध्यक्ष प्रदीप कुमार सिंह, प्रांतीय अध्यक्ष (राज.) प्रवेंद्र पंडित, सचिव चाँदनी केशरवानी, सचिव प्रीति पाठक प्रीति और पूरी काव्य कॉर्नर फ़ाउंडेशन टीम को साधुवाद देते हुए कहा कि आप सभी का प्रयास सहयोग संस्था के उत्तरोत्तर विकास में मील का पत्थर साबित हो रहा है इसमें कोई संदेह नहीं।

Share this story